भारत-जापान के बीच उन्नत मॉडल एकल खिड़की विकास पर हुआ समझौता प्रधानमंत्री डरे हुए हैं, वह सो नहीं सकते: राहुल गांधी गगनयान मिशन के बारे के इसरो ने दी जानकारी 24 घंटे में दोबारा थरथराया जम्मू-कश्मीर, भूकंप से सहमे नागरिक पाक पहले आतंकियों पर कार्रवाई करें फिर होगी बातचीत : भारत

13 मिनट तक सांस रोक लेते हैं बाजाओ आदिवासी

13 मिनट तक सांस रोक लेते हैं बाजाओ आदिवासी

एक सांस में 70 मीटर गहरे समंदर में उतरना और फिर वहां बिना किसी आॅक्सीजन के करीब 13 मिनट तक मछलियां मारना। विज्ञान अब बाजाओ कबीले के इस रहस्य का राज खोल रहा है। अंडमान निकोबार और दक्षिण पूर्व एशिया के बाजाओ आदिवासी बिना किसी आॅक्सीजन के समंदर में कई मिनट तक डूबे रहते हैं। उन पर लंबा शोध करने के बाद वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि जीन में बदलाव के चलते वो ऐसा कर पाते हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक बाजाओ कबीले के लोगों की तिल्ली या प्लीहा वक्त के साथ काफी बड़ी हो गई। पेट में मौजूद तिल्ली शरीर में आॅक्सीजन से समृद्ध लाल रक्त कणिकाओं को स्टोर रखती है। जब जरूरत पड़ती है तब तिल्ली से कणिकाएं निकलती है और पर्याप्त आॅक्सीजन मुहैया कराती हैं। बड़ी तिल्ली के चलते बाजाओ गोताखोरों के शरीर में आॅक्सीजन की सप्लाई ज्यादा हो सकती है। इसके चलते वह काफी देर तक समंदर के अंदर सांस रोक पाने में सफल होते हैं।

Topics: