कर्नाटक: आज भी नहीं हो सकी विश्‍वास मत पर वोटिंग, विधानसभा सोमवार तक के लिए स्‍थगित सोनभद्र नरसंहार: 32 ट्रैक्टरों में आए 300 लोगों ने बिछा दी 10 लाशें, 61 के खिलाफ मामला दर्ज, 24 गिरफ गरीब रथ ट्रेन बंद करने की तैयारी, दो गरीब रथ ट्रेनें हो गईं मेल-एक्सप्रेस.. बढ़ गया भाड़ा भारत-जापान के बीच उन्नत मॉडल एकल खिड़की विकास पर हुआ समझौता प्रधानमंत्री डरे हुए हैं, वह सो नहीं सकते: राहुल गांधी

राहुल का दुबई दौरा : अपने मन की बात नहीं कहूंगा, आपकी सुनने आया हूं

राहुल का दुबई दौरा : अपने मन की बात नहीं कहूंगा, आपकी सुनने आया हूं

नई दिल्ली। इस चुनावी माहौल में राजनेताओं के चुनावी वायदे शुरु होने लगे हैं। आम जनता के बीच संपर्क बढ़ाने की प्र‎क्रियाएं भी तेज होने लगी हैं। इसीक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दुबई दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे। बता दें ‎कि राहुल गांधी यहां कई कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। राहुल ने यहां पर भारतीय कामगारों को संबोधित किया। राहुल ने कहा कि आपने दुनिया में भारत का नाम रोशन किया है, आपको कई तरह की कठिनाईयां भी सहनी पड़ती हैं। उन्होंने कहा कि मैं अपने मन की बात कहने नहीं आया हूं बल्कि आपके मन की बात सुनने आया हूं। उन्होंने कहा कि हम जहां भी आपकी मदद कर सकते हैं वहां आपका साथ देंगे। गौरतलब है कि दुबई, अबुधाबी जैसे बड़े शहरों में भारतीय समुदाय के मजदूर काफी संख्या में रहते हैं। जो उत्तर भारत और दक्षिण भारत से वहां पर काम करने आए हैं। कामगारों से मुलाकात के अलावा राहुल गांधी यहां दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। वह इंडो-अरब सांस्कृतिक कार्यक्रम के चीफ गेस्ट होंगे। इसके अलावा 12 जनवरी को राहुल अबु धाबी जाएंगे जहां वो संयुक्त अरब अमीरात के मंत्रियों से मुलाकात करेंगे। इसके बाद वो इंडियन बिजनेस ग्रुप (आईबीपीजी) के सदस्यों से निजी कार्यक्रम के तहत बातचीत करेंगे। सूत्रों के मुता‎बिक कांग्रेस अध्यक्ष के कार्यक्रमों में शेख ज़ाएद मस्जिद में जाना भी शामिल है। आपको बता दें कि बीते साल भी राहुल गांधी ने दुबई, अमेरिका, ब्रिटेन जैसे देशों के दौरे किए थे, जिन्होंने काफी सुर्खियां बटोरी थीं। राहुल गांधी के साथ इस दुबई दौरे पर कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा और केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी भी गए हुए हैं। दुबई में भी राहुल गांधी ने वहां पर कई बिजनेसमैन से मुलाकात की। राहुल गांधी के साथ पहुंची टीम का कहना है कि ये कोई राजनीतिक दौरा नहीं है, हमारा उद्देश्य सिर्फ प्रवासी भारतीयों से संपर्क बढ़ाने का है।

Topics: