भारत-जापान के बीच उन्नत मॉडल एकल खिड़की विकास पर हुआ समझौता प्रधानमंत्री डरे हुए हैं, वह सो नहीं सकते: राहुल गांधी गगनयान मिशन के बारे के इसरो ने दी जानकारी 24 घंटे में दोबारा थरथराया जम्मू-कश्मीर, भूकंप से सहमे नागरिक पाक पहले आतंकियों पर कार्रवाई करें फिर होगी बातचीत : भारत

प्रत्यर्पण मामलाः सबका हिसाब चुकता कर दूंगा- विजय माल्या

प्रत्यर्पण मामलाः सबका हिसाब चुकता कर दूंगा- विजय माल्या

किंगफिशर एयरलाइन के 62 वर्षीय प्रमुख पिछले साल अप्रैल में जारी प्रत्यर्पण वारंट के बाद से जमानत पर है.

भारतीय बैंकों से करोड़ों का कर्ज लेकर फरार हुए शराब कारोबारी विजय माल्या बुधवार को लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में अपने प्रत्यर्पण के मामले की सुनवाई के लिए पेश हुए. इस सुनवाई में न्यायाधीश भारतीय अधिकारियों द्वारा मुंबई जेल में शराब व्यावसायी के लिए की गई तैयारी के वीडियो की समीक्षा करेंगे.
कोर्ट के अंदर दाखिल होते हुए माल्या ने रिपोर्टर्स से कहा, 'मैंने मामले के पूरी तरीके से सेटलमेंट के लिए कर्नाटक कोर्ट में अपील की है और मुझे उम्मीद है कि माननीय जज इसको ध्यान में रखते हुए मेरे पक्ष में फैसला सुनाएंगे. सभी का हिसाब चुकता कर दूंगा और मुझे लगता है यही अहम मकसद है.''
किंगफिशर एयरलाइन के 62 वर्षीय प्रमुख पिछले साल अप्रैल में जारी प्रत्यर्पण वारंट के बाद से जमानत पर है. उन पर भारत में करीब 9000 करोड़ रूपये के धोखाधड़ी का आरोप है. इससे पहले जुलाई में वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट की अदालत की न्यायाधीश एमा अर्बुथनाट ने उनके ‘‘संदेहों को दूर करने के लिए’’ भारतीय अधिकारियों से ऑर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 का ‘सिलसिलेवार वीडियो’ जमा करने को कहा था. भारत सरकार की तरफ से क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) ने जिरह की थी और वीडियो को अदालत में जमा करने के लिए रजामंदी जताई थी. वीडियो अदालत में जमा कर दिया गया है. माल्या का बचाव करने वाले दल ने जेल के निरीक्षण की मांग की थी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि प्रत्यर्पण प्रक्रिया ब्रिटेन के मानवाधिकार संबंधी वादे को पूरा करता है.

9,000 करोड़ धोखाधड़ी का है आरोप

शराब कारोबारी विजय माल्या पर भारत में 9,000 करोड़ धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। इस मामले में माल्या को भगोड़ा घोषित किया जा चुका है। विजय माल्या का इस मामले को अंजाम देकर देश छोड़कर फरार हो गया था। मार्च 2016 से माल्या ब्रिटेन में है। पिछले साल चार दिसंबर को लंदन की अदालत में उसके प्रत्यर्पण को लेकर मुकदमा शुरू हुआ था, लेकिन उसे जल्द ही कोर्ट से जमानत मिल गई थी। बता दें कि विजय माल्या मुंबई की ऑर्थर रोड जेल में रहने से मना कर रहा है। भारत की तरफ से लंदन की कोर्ट में कहा है कि ऑर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 पर हर समय सीसीटीवी से नजर रखी जाएगी। साथ ही यहां पर 24 घंटे सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।

ये है ऑर्थर रोड जेल की खासियत

ऑर्थर रोड जेल मुंबई की सबसे बड़ी और पुरानी जेल है। इसकी स्थापना 1926 में की गई थी। 1994 में इसको अपग्रेड किया गया। तभी इसका आधिकारिक नाम मुंबई सेंट्रल जेल रखा गया। हालांकि यह ऑर्थर रोड जेल के नाम से ही मशहूर है। यह जेल 2 एकड़ जमीन पर फैली हुई है। यह जेल मुंबई के वीआईपी इलाके में स्थित है।

 
Topics: